img
Kirannidhi Sansthan

Testimonial



Testimonials

What People Says About Us

पिपलांत्री पंचायत एक सफलतम पंचायत का उदाहरण है। कुछ प्यार, कुछ ज्ञान और बहुत कुछ मेहनत ने इस पंचायत को बदल कर रख दिया। सरकारी योजनाओ का उत्कृस्ट उपयोग। इसे ज्यादा से ज्यादा लोग देखे और अपनी-अपनी पंचायत में इसकी नक़ल करे, करवाएं। यहाँ का काम सफलतापूर्वक चलता रहे। पूर्व सरपंच साहब और गांव वालो को मेरी बधाई।

Vashundhra Raje,Past Cheif Minister

आप सबने मिलकर एक बहुत सुन्दर गांव का निर्माण किया है । इसके | लिए मैं आप सभी ग्रामीणों को शुभकामनाएं देता हूं । जब गांव का विकास होगा , तभी देश का विकास संभव है । जहां पर सुंदर काम होता है वहां पर लोगों की बुरी नजर लगती है । इसको बुरी नजर से बचाना । यह काम आगे भी चलता रहे । यहां से देश की अन्य ग्राम पंचायतें भी प्रेरणा लेकर अपने गांवों को इस तरह सुन्दर गांव बनाएं ।

Anna Hazare

सीमित साधनों का बेहतर सदुपयोग सीमित साधनों का बेहतर सदुपयोग कैसे करें - इसका सुंदर उदाहरण यह गांव है । पं . दीनदयाल जी के विचारों को वास्तव में अपनाते हुए एक - एक योजना सोचकर बनाई । सभी को यहां आकर देखना चाहिए ।

Sumitra Mahajan

इस ग्राम पंचयत के सरपंच एव जनता ने मिलकर यह नमूना प्रस्तुत किआ है।ऐसी ही सभी पंचयत बने।यह से सभी को रौशनी मिलेगी।

Dr. Raguvansh Prashad
img


Other
Testimonials

पिपलांत्री ग्राम पंचायत द्वारा किये गए बुनयादी कार्यो में ग्राम स्वराज कि कल्पना साकार होती दिख रही है ।

डॉ.प्रेमकुमार, मंत्री ,जन स्वास्थीय अभियांत्रिका विभाग , बिहार

राजसमंद जिले की 206 पंचायतो को पिपलांत्री पद्यति का आचरण करने के लिए प्रेरित करना चाहिए।

बंशीलाल खटीक, विधायक राजसमंद , १४.११ .२००५

मै इन सभी विकास कार्यो के लिए श्यामसूंदर जी पालीवाल को इस विकास के लिए अवतारी पुरुष मानता हूँ ।

गणेशसिंह परमार , विधायक,कुम्भलगढ़ ,राजसमंद ,२२.०३.२०१२

मैने यहां बारंबार भ्रमण कर तीव्र गति से समग्र विकास को देखा । फ़रवरी २००५ से लेकर निरंतर शिक्षा,पेयजल,चिकित्सा,जलग्रहण विकास,पर्यावरण रक्षा,कृषि,पशुपालन,प्रसाशन अदि तमाम क्षेत्रों मै हुए विकास से मै प्रभावित हूँ।निकट भविष्य मे ग्राम पंचायत पिपलांत्री ओषधीय जड़ी बूटीयो का उत्पादन क्षेत्र बनेगा।

पराग चौधरी,विकास अधिकारी,गोविंदगढ़,जयपुर ०२.०७.२०११

पिपलांत्री में श्यामसुंदर पालीवाल के नेतृत्व में ग्राम पंचायत ने नंगे पहाड़ों को हरे - भरे बनाने का सराहनीय कार्य किया है । खनन के कारण अरावली पर्वतमाला नंगी हो रही है । इससे यहां की धरती को बुखार - सा हो गया था । मौसम का मिजाज बिगड़ रहा था । गांववासियों के द्वारा वृक्ष संरक्षण कार्य इस गांव का भविष्य सुधारने वाला है । इस अच्छे काम को किसी की नजर नहीं लगे । यह कार्य बिना रुके आगे बढ़ें । मंगलकामनाऐं ।

राजेन्द्रसिंह , अलवर मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित , 05 . 08 . 2012

पिपलांत्री में विकास की परिकल्पना समग्र रूप से साकार होती नजर आती है । प्राकृतिक विकास , लोगों का जुड़ाव और लोगों को आजीविका दिलाना । मार्बल के पहाड़ों को पुनः हरे - भरे पहाड़ों में परिवर्तित करना , उस पर इस तरह के पेड़ लगाना , जिससे वहां के ग्रामीणों को कुछ समय बाद आजीविका मिलना शुरु हो जाए । मैंने रालेगण सिद्धि का भ्रमण भी किया है । अनुभव के आधार पर कह सकता हूं , उससे भी बढ़कर है यह । आज यह एक आयलैण्ड के रूप में नजर आ रहा है । अगले कुछ वर्षों में पालीवालजी के पास इनके जैसे ही समर्पित लोगों की एक टीम हो, जो कई पंचायतों को पिपलांत्री जैसा करे, तभी इसका प्रभाव कायम रह पाएगा । श्यामसुंदरजी का प्रयास अच्छा है । मैं इनको अपने निर्देशन में 100 लोगों के एक दल को तैयार करने के लिए प्रेरित करता रहंगा । यही प्रक्रिया जो पिपलांत्री में अपनाई गई है , आसपास की पंचायतों में भी अपनाई जाए तो इकोलॉजिकल बैलेंस हो पाएगा ।

बद्रीलाल स्वर्णकार पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी , जिला परिषद , राजसमंद
imgimg

Thank You

To all our well wishers